दिल्ली मेट्रो के सबसे छोटे मेट्रो कारिडोर ग्रे लाइन (Delhi Metro Grey Line) पर मेट्रो ट्रेनों की गति बढ़ेगी। इसके लिए मंगलवार को ट्रायल होना है। इस वजह से ग्रे लाइन पर दोपहर 12:30 से डेढ़ बजे तक एक घंटा मेट्रो का परिचालन प्रभावित रहेगा। इससे द्वारका से नजफगढ़ स्थित ढांसा बस स्टैंड के बीच आवागमन में यात्रियों को थोड़ी परेशानी होगी। करीब डेढ़ बजे (01:30 बजे) परिचालन सामान्य हो जाएगा। इसके अलावा ट्रायल के बाद ग्रे लाइन पर मेट्रो की गति बढ़ने से यात्रियों को प्रतिदिन आवागमन में सुविधा होगी।

5.19 किलोमीटर लंबी ग्रे लाइन पर पहले द्वारका नजफगढ़ तक मेट्रो लाइन का निर्माण हुआ था। इस वजह से शुरुआत में द्वारका से नजफगढ़ के बीच ही मेट्रो का परिचालन होता था। बाद में इस कारिडोर का विस्तार नजफगढ़ से एक स्टेशन आगे ढांसा बस स्टैंड तक किया गया। इसलिए पिछले साल सितंबर से द्वारका से सीधे ढांसा बस स्टैंड मेट्रो स्टेशन तक मेट्रो सेवा उपलब्ध हो गई।

 

मेट्रो की वापसी के लिए नहीं बना है कारिडोर

दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी, DMRC) के अनुसार, ढांसा बस स्टैंड से आगे मेट्रो के वापसी के लिए कारिडोर नहीं बनाया गया था। इस वजह से ढांसा बस स्टैंड मेट्रो स्टेशन के प्लेटफार्म पर पहुंचने के बाद ट्रेन वहीं से वापस लौट जाती हैं। जिससे ढांसा बस स्टैंड मेट्रो स्टेशन के प्लेटफार्म पर पहुंचने से पहले ही मेट्रो की गति कम हो जाती है और मेट्रो की गति कम रहती है।

 

मेट्रो की गति रहती है कम

मेट्रो की औसत गति 40 से 45 किलोमीटर प्रति घंटे होती है। अब ढांसा बस स्टैंड स्टेशन से थोड़ी तक मेट्रो ट्रैक और सिग्नल सिस्टम पूरा तैयार हो गया है। इसलिए मेट्रो स्टेशन के प्लेटफार्म पर पहुंचकर वहीं खड़ी नहीं रहेगी। बल्कि यात्रियों को उतरने के बाद थोड़ी दूर आगे जाकर वापस लौटेगी। इससे ग्रे लाइन पर मेट्रो की गति बढ़ जाएगी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *